Text Size

भक्ति की साधना

प्रश्न – क्या भक्तिमार्ग की साधना गुरु के बिना नहीं हो सकती ॽ भक्ति की साधना में क्या गुरु की अनिवार्य आवश्यकता है ॽ
उत्तर – भक्ति की साधना में गुरु की अनिवार्य आवश्यकता है ऐसा नहीं समझना है । किसीको गुरु की आवश्यकता होती है तो किसीको नहीं होती । गुरु की आवश्यकता किसको है और किसको नहीं यह सभीको अपनी ओर से तय करना चाहिए । जो बाह्य मार्गदर्शन के बिना अपनी साधना में आगे बढ़ न सके उनको गुरु की आवश्यकता का स्वीकार करके प्रथम ऐसे गुरु की प्राप्ति का प्रयास करना चाहिए । किन्तु इससे उलटा, जो बाह्य मार्गदर्शन के बिना भी भक्तिमार्ग में आगे बढ़ सकते हैं उनको गुरु की राह न देखकर आगे बढ़ना चाहिए । गुरु की ज्यादा चिन्ता करने की जरूरत नहीं है । अपने अंतर में रहनेवाले ईश्वर के भीतर विश्वास रखके उस पर आधारित होकर इनकी सूचना या प्रेरणा पर आगे बढ़ सकते हैं । ऐसे देखा जाय तो भक्ति की साधना गुरु के बगैर भी हो सकती है । एक और भी बात है कि गुरु की कामना हो और गुरु न मिले तो वहाँ तक मानव को दो हाथ जोडकर बैठे रहना चाहिए और भक्तिमार्ग की साधना में प्रवेश न करना चाहिए ऐसा भी समझना नहीं है । गुरु के मार्गदर्शन के बिना भी मानव खुद अपनी रुचि के अनुसार भक्ति की साधना का प्रारंभ कर सकता है और ऐसी शुरुआत से किसी प्रकारका नुकसान नहीं होता ।

*
प्रश्न – भक्तिमार्ग की साधनामें प्रधान महत्वपूर्ण साधन कौन कौन से हैं ॽ
उत्तर – भक्ति की साधना में बाह्य जो प्रधान महत्व के साधन है, इसमें जप, ध्यान, कथा-श्रवण, सेवा-पूजा और सत्संग का समावेश होता है और आंतरिक साधन में प्रधान रूप से प्रेम की गणना हो सकती है । बाह्य साधन मन को निर्मल करने में, एकाग्र करने में और भक्तिभाव से सभर करके ईश्वरपरायण करने में सहायता करते हैं । इनके सम्यक् अथवा समझपूर्ण अनुष्ठान से ईश्वर के लिये परम प्रेम का उदय होता है । भक्तिमार्ग में ईश्वर के लिये यह प्रेम ही सर्वस्व है और इसकी अभिवृद्धि की ओर जितना भी ध्यान दिया जाए उतना कम है । बाह्य साधन मन को निर्मल और निर्विकार बनाकर ईश्वर के लिए परम प्रेम को प्रकट करने और प्रबल बनाने के लिये है । प्रेम की प्रबलता होते ही भक्त का अन्तर्मन ईश्वर-दर्शन के लिये रोने लगता है, तड़पता है, और आकुल-व्याकुल होकर पुकार उठता है । हाँ, ऐसा प्रखर और प्रबल प्रेम किसी विरल भाग्यशाली के जीवन में प्रकट होता है । ऐसा प्रेम प्रकट होने के बाद ईश्वर-दर्शन बहुत दूर नहीं रहता । भक्त केवल बाह्य साधनों में खो जाए और आजीवन उसमें डूब न जाए इसका उसे विशेष ध्यान रखना है । तभी वह आगे बढ़कर साधना में अग्रेसर हो सकेगा ।

- © श्री योगेश्वर (‘ईश्वर-दर्शन’)

 

Today's Quote

It is easy to be friendly to one's friends. But to befriend the one who regard himself as your enemy is the quientessence of true religion. The other is mere business.
- Mahatma Gandhi

prabhu-handwriting