Friday, May 29, 2020

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु

लोहाणा बोर्डींग, बडौदा
ता ३० अक्तूबर, १९४०

प्रिय आत्मन्,

हमेशा की तरह मेरा स्नेहवंदन । सिर्फ इसलिये नहीं की आज नूतन वर्ष है, लेकिन मैं तुमको नूतन भावना से प्रेरित होकर जीवनपथ पर चलते देखना चाहता हूँ । जो जोश और उमंग साल के पहले दिन होता है, एसा हरहंमेश बना रहे तभी नूतन वर्ष सार्थक होगा ।

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु !

आजकल पश्चिम के देशों के हालात अच्छे नहीं है । किसी गुब्बारें की तरह वहाँ संस्कृति और सुधार की हवा निकल रही है । मानव, पशु, यहाँ तक की धरतीमाता वेदना से व्यथित है । यह परमशक्ति की लीला है । आसुरी तत्वों का नाश दैवी शक्ति के उदय के लिये है । अगर हम इस बात में विश्वास रखते है, तो अब भारत का उदय समीप है । जगत में शांति का वातावरण हो इसके लिये हमें अपने आप को तैयार करना होगा । अगर हम दुनिया में अमन और शांति चाहते है, तो सबसे पहले हमें अपने आसपडोश, अपने संबंधीओं से प्यार करना होगा । जो विश्वशांति के प्रयासों में नाकाम होते है उनकी विफलता का प्रधान कारण यही होता है - वे खुद अमन और प्यार से दूर होते है ।

हम प्यार और शांति से भरें है । हम पवित्र है, मुक्त है, दिव्य है । हम जन्म और मृत्यु से पर है । हम कामिनी और कांचन की मोहिनी से मुक्त है । हम किसी सांसारिक बंधन में फँसनेवाले नहीं है । हम वीर्यवान है । हम पूर्वजन्म के ऋषिवर है । हम किसी महान और निश्चित लक्ष्य की पूर्ति के लिये धरा पर अवतीर्ण हुए है ।

 

Today's Quote

The task ahead of us is never as great as the power behind us.
- Anonymous

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok