Sunday, August 09, 2020

काशी में मृत्यु

प्रश्न – काशी में मृत्यु होने से मुक्ति मिलती है - इस शाश्त्र-वचन को आप मानते हैं ॽ
उत्तर – मानता हूँ परन्तु इसे सिर्फ शब्दार्थ में नहीं अपितु उसको भावार्थ के साथ स्वीकार करने में मानता हूँ ।

प्रश्न – भावार्थ के साथ स्वीकार करने का मतलब ॽ क्या आपको शास्त्र-वचन में श्रध्धा नहीं है ॽ
उत्तर – इसमें मुझे श्रध्धा नहीं है ऐसा तो कैसे हो सकता है ॽ सत्यतः देखा जाए तो यह प्रश्न ही नहीं है । शास्त्रवचन का वाच्यार्थ नहीं भावार्थ ग्रहण करना है । हर साल और हर दिन काशी में कितने जीव या आदमी जन्म लेते हैं इसलिए उनको मुक्ति मिलती है यह मानना ग़लत होगा । काशीनगरी में रहकर केवल मृत्यु प्राप्त होने से उनको मुक्ति नहीं मिल सकती । काशी में रहनेवाले सभी व्यक्ति धर्मात्मा नहीं होते । इसी तरह केवल वहाँ बसने से उनको मुक्ति कैसे मिले ॽ वे सब ईश्वरपरायण जीवन नहीं जीते । उनमें अहंता, ममता, रागद्वेष, आसक्ति, कामना व लालसा ऐसा सबकुछ होता है । उनसे प्रेरित हो वे कुछ प्रकार के कुकर्म भी करते हैं । ऐसे कुकर्मी लोग यदि काशी में मरे तो उनकी मुक्ति क्या हो सकती है ॽ मुझे नहीं लगता कि उनकी मुक्ति हो क्योंकि जिसका चारित्र्य शुद्ध न हो, जो सद्गुणी, सात्विक स्वभाव का और ईश्वर-परायण न हो और अनीति, अन्याय, अधर्म या कुकर्म में से जिसका मन प्रतिनिवृत्त नहीं हुआ हो उसे मुक्ति की प्राप्ति नहीं हो सकती । मुक्ति की प्राप्ति – यह तो जीवन विकास का एक स्वाभाविक क्रम है । शुद्ध हृदय के साधक ही उसका लाभ ले सकता है । मुक्ति इतनी सस्ती नहीं है कि काशी जैसे किसी धाम में रहने या मरने मात्र से ही मिल जाए । ना, ऐसी भ्रांति में मत रहना ।

प्रश्न – तो फिर काशी में रहने से मुक्ति मिलती है एसा क्यों कहा गया है ॽ
उत्तर – जैसे कि मैंने पहले बताया कि उसका केवल भावार्थ लेना है । उस कथनको भावार्थ सहित समझने से आपको कोई सन्देह नहीं रहेगा । जिस ज़माने में यह शास्त्रवचन लिखा गया उस समय काशी आत्मज्ञान का महान केन्द्र था । अध्यात्म विद्या का प्रचार व प्रसार अधिक प्रमाण में था । तदुपरांत भाँति भाँति के दिग्गज, मेधावी, प्रशांत महापुरुष आजी अपेक्षा अधिक प्रमाण में वहाँ निवास करते थे अतएव उनके समागम या सत्संग का आसानी से लाभ मिलता था । फलतः वहाँ निवास करनेवाले और विशेष रूप में जिज्ञासु लोगों के जीवन में परिवर्तन होता था । उन्हें देवदुर्लभ लाभ मिलता था और वे ज्ञान को प्राप्त कर अपने जीवन को शुद्ध, पूर्ण, मुक्त और ईश्वरमय बनाने के लिए तत्पर होते थे । इसी तरह उनके जीवन में मूलभूत क्रांति होती थी और जीवनभर आत्मिक विकास प्राप्त कर ऐसी उच्च अवस्था में मृत्यु होने से मुक्ति उनके लिए सहज होती थी । इस तरह बुध्धियुक्त सहानुभूति के साथ इस कथन को समझना हैं । जीवन को उच्च बनाने से आज या भविष्य में, किसीको भी, सिर्फ काशी में नहीं, अन्य किसी भी स्थान में बसने या मरने से मुक्ति मिल सकती है । काशी के प्रेमियों ने सिर्फ काशी के लिए ऐसा लिखा है बस ।

प्रश्न – स्थान की महिमा को आप नहीं मानते क्या ॽ
उत्तर – मानता हूँ । स्थान की अपनी महिमा अवश्य होती है । इसका इन्कार कैसे कर सकते हैं ॽ किन्तु सर्वोत्तम स्थान में रहकर भी कुछ न करे और आलसी बनकर हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे तो उसका विकास कैसे होगा ॽ वह मुक्ति को कैसे प्राप्त कर सकेगा ॽ मनुष्य को किसी भी स्थान में रहकर कम से कम आवश्यक विकास तो करना ही चाहिए तभी कोई महत्वपूर्ण सिद्धि प्राप्त हो सकेगी ।

- © श्री योगेश्वर (‘ईश्वरदर्शन’)

 

Today's Quote

Pain is inevitable. Suffering is optional.
- Dalai Lama

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok