Thursday, August 06, 2020

जगदंबा के तीन स्वरूप

शास्त्र कहते हैं कि परमात्मा की पवित्र प्रखर प्रेमभक्ति का प्रवाह जिसके जीवन में बहने लगता है उसका जीवन सार्थक हो जाता है । परमात्मप्रेम का पवित्र प्रकाश जिसके प्राण में छा जाता है उसका प्राण प्रसन्न व पुलकित हो जाता है । उनके नयनों में सिवाय स्नेह के कुछ नहीं रहेता । वह सब काल व सर्वत्र परमात्मा को देखता रहता है । ‘अखिल ब्रह्मांड में एक तुम श्री हरि’ - यह वचन उनके संबंध में सच साबित होता है ।

श्री रामकृष्ण परमहंसदेव उस शास्त्रकथन के मूर्तिमंत अवतार या स्वरूप जैसे ही थे । उनमें उत्पन्न हुई परमात्मा की पावन प्रेमभक्ति समय बीतने पर चरमसीमा पर पहूँची थी । उसी प्रखर प्रेमभक्ति ने उनमें आमूल परिवर्तन पैदा कर दिया था और उनके अणु-अणु में समाकर उन्हें अलौकिक बना दिया था ।

वे परमात्मा की प्रेमभक्ति में डूबे रहते थे यह कहना तनिक भी अनुचित नहीं । परमात्मा को वे माँ के रूप में भजते और माँ कहके ही पुकारते । जगदंबा के पद गाते, सुनते, सुनाते या याद करते हुए भावविभोर बन जाते और भावसमाधि में डूब जाते । भगवान की भक्ति के प्रभाव से उनका अंतर इतना निर्मल बन गया था कि उसमें कामवासना के अंकुर ही पैदा नहीं होते थे । हमेशा निर्मलता का ही अनुभव करते । अपनी पवित्रता की कसौटी करने वे अपनी पत्नी शारदादेवी के साथ एक ही खाट पर छ महिने तक सोये थे ।

इसका उल्लेख करते हुए शारदादेवी ने बाद में कहा, ‘वे मेरे साथ एक मासूम बालक की तरह शांति से पडे रहते । कभी कभी मैं रात को जागती तो वे मेरे पास ही पलंग पर समाधि में बैठे नजर आते । मुझे किसी प्रकार का भय न लगे इसलिए मुझे उन्होंने समाधि वह अजीब अनुभूति की जानकारी दी थी और कहा था, यह अवस्था देख डरना मत । कभी लंबे समय तक मैं होश में न आउँ तो मेरे कान में प्रणव का या भगवान के किसी भी नाम का उच्चार करना । इससे मैं होश में आ जाऊँगा । उनकी गहरी समाधि की अवस्था में उनके कथनानुसार मुझे कितने ही बार वे प्रयोग करने पडे थे । वे समाधि में से जब जागते तब मुझे संतोष होता । आरंभ में यह सब मुझे अजनबी-सा लगा पर बाद में मैं उनसे अभ्यस्त हो गई और उन्हें साधना में सहायक बनती गई ।’

रामकृष्णदेव की भाँति शारदादेवी को भी इसके लिए धन्यवाद देना चाहिए । वे भी नखशीख निर्मल व वासनारहित थी और इसीलिए अपने पति की साधना में सहायक बन सकी । वे भी उच्च कोटि की साधिका बनी ।

कितना पवित्र, असाधारण, और उदात्त होगा उन दोनों का दांपत्य-संबंध ? जो केवल शरीर को ही स्त्रीपुरुष के विवाहित जीवन का लक्ष्य, प्रयोजन या लायसंस मानते है वे उनके इस अदभूत दिव्य आत्मसंबंध को नहीं समज पाएँगे । लेकिन इससे वह मिथ्या तो नहीं हो जाता, उसका मूल्य कम नहीं होता ।

यही प्रेमभक्ति के परिणाम स्वरूप रामकृष्णदेव सब में जगदंबा के अपार्थिव प्रकाश की झाँकी करते थे । यह उनके लिए सहज हो गया था । ऐसे दिव्य जीवन में फिर कामुकता कैसे पैदा हो ? इस संबंध में एक और सुंदर प्रसंग का स्मरण हो आता है ।

एक बार रात के समय रामकृष्णदेव सो रहे थे और शारदादेवी उनकी चरणसेवा कर रही थी । उसी वक्त उन्हें एकाएक विचार हुआ कि रामकृष्णदेव की मनोवृत्ति कहाँ भटक रही है, मैं जरा देखूँ तो सही । इसी विचार से प्रेरित होकर उन्होंने पूछा, ‘कहीए तो, मैं आपकी कौन होती हूँ ?’

रामकृष्णदेव ने तत्क्षण उत्तर दिया, ‘क्यों ? इसमें क्या पूछना ? एक स्वरूप में माँ मंदिर में विराजित होती है, दूसरे रूप में जननी बनकर मुझे जन्म दिया और तीसरे रूप में वे तुम्हारे द्वारा मेरे पैर दबा रही है । आप तीनों एक है, आपमें कोई भेद नहीं ऐसा मेरा विश्वास है ।’

शारदादेवी तो यह सुन दंग रह गई ।

आज, जब की यह घटना हुए कई साल बीत गये हैं, रामकृष्णदेव के उस लाक्षणिक उत्तर से अनेक व्यक्ति आश्चर्य में पड जाएँगे । किन्तु इसमें अचरज की कोई बात नहीं है । संसार के प्रत्येक पदार्थ में ईश्वर की झाँकी करना आदर्श भक्त का स्वभाव होता है । इसी स्वभाव की प्रतिध्वनि उस घटना में ध्वनित होती है ।

धन्य हैं रामकृष्णदेव और धन्य हैं शारदादेवी ! उनके चरणों में कोटिकोटि प्रणाम ! हम उन्हें प्रार्थना करें कि अहेतुकी अलौकिक कृपावृष्टि करके आप हमारे अंतर को भी वैसा ही अलौकिक बनायें और परमात्मभाव से भर दें !

- श्री योगेश्वरजी

Comments  

+1 #1 Vipin Kumar Dagar 2011-12-15 17:12
शुक्रियाँ, बहुत ज्ञानवर्धक जानकारी है । मैं आपका आभारी हूँ ।

Today's Quote

In just two days, tomorrow will be yesterday.
- Anonymous

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok