चिता का उपदेश

स्मशान में जलनेवाली चिता क्या कोई साधारण चीज है ? औरों को शायद ऐसा लगता होगा मगर मुझे नहीं लगता । मुझे तो वह सदैव ही शिक्षा व प्रेरणादायी लगती है । विवेकभ्रष्ट और मोहमाया से अंध लोगों को वह मानो अपनी ज्योति से शिक्षा देती है कि एक दिन संसार की सभी चीजें भस्मीभूत होनेवाली है । इसलिए उन चीजों के पीछे भागना व्यर्थ है । यह सुंदर दीखनेवाला शरीर आखिरकार मिट्टी में मिलनेवाला है । इसलिये उसकी ममता और मोह करना छोडो । उसके लिए न करने जैसे कार्य करना छोडो । अपने बल, यौवन, रूप या धन का गुमान करना छोडो क्योंकि ऐसे अनगिनत बलवान, रूपवान, धनवान और सौंदर्यवान लोग चिता में भस्म हो गये है । इससे प्रेरणा पाकर तुम भी अहंकार का त्याग करो और अच्छे कर्म करने का प्रयत्न करो । ताकि मृत्यु आने पर जीस्म तो जल जाय मगर तुम्हारा जीवन अमर हो जाय ।

स्मशान की चिता में ऐसे तो कई अनगिनत संदेश छीपे हुए है । चिता को अगर एक युनिवर्सीटी की उपमा दी जाये तो वो गलत नहीं होगा । दुनिया में ऐसे कई लोग है जो आंख बंद करके जीते है । मतलब यह कि अपने आसपास जो कुछ हो रहा है उससे कुछ प्रेरणा नहीं लेते ओर बस अपनी ही मस्तीमें जीये जाते है । लेकिन जो जाग्रत होते हैं वो अपने आसपास के दृश्यों व घटनाओं से शिक्षा पाते है । उनके लिये कोलेज व स्कुल और किताबें ही केवल शिक्षादायी नहीं होते बल्कि चिता जैसी चीज भी शिक्षा की अनुपम सामग्री बन जाती है ।

एक दिन जाना रे भाई,

आखिर मिट्टी में मिल जाना,

एक दिन जाना रे भाई ।

जब भी मैं चिता की ओर देखता हुँ तो ये पंक्तियाँ मेरे मन में गुंज उठती है । रुखीबा की चिता के बाद ओर कई चिताएँ देखने का अवसर उपस्थित हुआ है । हर बार उससे मुझे कुछ न कुछ प्रेरणा अवश्य मिली है । जो काम कथाकार ओर उपदेशक नहीं कर सके वह काम मेरे लिए चिता ने किया है ।

 

Today's Quote

Time spent laughing is time spent with the God. 
- Japanese Proverb

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.