पिताजी की मृत्यु

सांकुबा (पिताजी की माताजी) पिताजी को कृषि में सहयोग प्रदान करती थी । वे बडी-ही मेहनती और बहादुर थी । खेतों में पानी मोडना व कोस चलाना उनके लिए मानो बाँये हाथ का खेल था । वे पढी-लिखी नहीं थी किन्तु ईश्वरमें उनकी अटूट आस्था थी ।

कुछ लोगों को अपने बचपन की बातें ठीक तरह से याद रहती है । बचपन के कई छोटे-मोटे  किस्से वे हुबहु बयाँ कर सकते है । ऐसा सिर्फ युवानों में ही नहीं लेकिन बुजूर्गो में भी पाया जाता है । जब अपने अनुभव प्रस्तुत करने की उनकी बारी आती है तो वो उनको ईतनी बारिकी से पेश करते है की सुननेवाले दंग रह जाते है । उनकी स्मरणशक्ति पर हमें आश्चर्य एवं आदर होता है । एसे लोग बुढापे में भी अपनी बीती हुई जिंदगी को याद करके फिर बचपन के दिनों का आस्वाद ले लेते है ।

मेरी बात कुछ अनोखी है । मेरे बचपन के अधिकतर प्रसंग मुझे याद नहीं । इस बात का मुझे कोई ग़म नहीं । यह बात ठीक है या नहीं इसकी चर्चा मैं नहीं करना चाहता । यहाँ पर तो मुझे जो भी कुछ याद है वो मैं बताने की कोशिश कर रहा हूँ । वैसे तो हम अनगिनत बार जन्म ले चुके है और शैशव की अनुभूति कर चुके हैं । हम में से किसीको उनके बारें में कुछ याद नहीं । इसके लिए हमें कभी अफसोस नहीं होता । तो फिर इस जन्म की कुछ स्मृतियाँ याद न रहने से मैं भला क्यूँ शोक करुँ ? यह जीवन भी कहाँ हमेशा रहनेवाला है ? इसलिए मुझे जो कुछ भी याद है उससे मुझे खुशी है मगर मैं जो भूल चुका हूँ उसका मुझे कोई आपत्ति नहीं ।

बचपन में मुझे उदर की व्याधि रहा करती थी । मेरे माताजी के बताने पर मैं यह कह रहा हूँ । मेरी यादशक्ति तेज थी । गाँव में रमताशंकर नामक एक सज्जन पुरुष रहते थे जो बच्चों को संध्या-वंदन करना सिखाते थे । उन्हीं से मैं संध्या, रुद्री व शिवमहिम्न के पाठ सिखा । हररोज शिवजी के मंदिर में मैं संध्या करने जाता था ।

बचपन के दिन गुजरते हुए देर लगती है भला ? जब सारा जीवन ही पानी की तरह क्षण में बह जाता है तो बचपन का क्या कहना ? जीवन के आठ साल तो यूँ करके बीत गये और मेरा ९ वें साल में प्रवेश हुआ । यह साल मेरे लिये क्रांतिकारी सिध्ध हुआ । श्रावण सुद बारस को मेरा नौवें साल में प्रवेश हुआ । भाद्रपद में पिताजी को चेचक की बीमारी हुई और कुछ ही दिनों में वे चल बसे । युवान वय में मौत होने से कुटुंब में कोहराम मच गया । गाँव के लोग उनके सदगुणों को याद करके शोक करने लगे । मेरी माँ की उम्र उस वक्त सिर्फ पच्चीस साल की थी । अपना सुहाग खंडित होने पर वह शोकग्रस्त हो गई । उसकी यथाकिंचित स्मृति मुझे आज भी है ।

लेकिन शोक करने से क्या होता है ? जो चला जाता है वो वापिस तो नहीं आता । जन्म और मृत्यु सनातन है, अटल है । सबको एक न एक दिन उसका मेहमान होना है । जो भक्ति द्वारा परमात्मा की प्राप्ति कर लेता है वह अमर हो जाता है । जन्म और मृत्यु एक दूसरे के पूरक है । सूर्य अस्त होने से क्या सूर्य का अंत हो जाता है ? वो तो कहीं ओर निकलता है । एक जगह का सूर्यास्त किसी और के लिए सूर्योदय है । मृत्यु के बारे में भी एसा सोचकर हमें हर्ष-शोक से परे होना है । जो ईश्वर के चरणों में प्रेम करता है उसका सुहाग कभी नहीं मिटता । मौत उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकती । संसार के सब ऐश्वर्य क्षणभंगुर है, विनाशशील है, शाश्वत नहीं है । ये शरीर भी इसी तरह चीरस्थायी नहीं, उसका अंत कभी न कभी तो होना ही है । धीरा भगत ने गाया है कि

काच नो कूपो काया तारी,

वणसताँ न लागे वार ।

जीव काया ने सगाई केटली,

मूकी चाले वन मोझार ।

अर्थात् तेरी काया काँच के बरतन की तरह क्षणभंगुर है, उसे टूटते हुए देर नहीं लगती । जीव और देह का साथ आखिर कब तक ? जीव तो शरीर को बीच-रास्ते छोड़कर चला जायेगा ।

लेकिन अधिकांश लोग यह विवेकज्ञान से अनभिज्ञ है इसलिए शोक करते है । हमारे घर में मातम छा गया । इतना गम क्या कम था कि पिताजी के मृत्यु के पंद्रह दिन पश्चात हम तीन भाई-बहनों में सबसे छोटी बहन चल बसी ।

ईश्वर की लीला अपरंपार है । वह जो भी करता है मंगलमय होता है, अनुभवी संतो का यह कहना है । पिताजी के मृत्यु पश्चात मेरी पढ़ाई के लिये योजना बनाई गई । माताजी के बड़े भाई रमताशंकर चौपाटी में किसी शेठ के घर चपरासी की नौकरी करते थे । उनके मकान के पास एक अनाथ बच्चों का आश्रम था । उन्होंने मेरे प्रवेश के लिए अरजी दी और वो मंजूर हो गई । उस जमाने में बंबई पढ़ने के लिए जाना सरोडा जैसे पिछड़े हुए गाँव के लिए लंदन जाने के बराबर था । कई गाँववालों ने इसका विरोध किया, लेकिन मेरी इच्छा दृढ़ थी । ईश्वर ने भी यही चाहा था । मानो मेरे पूर्व-संस्कार मुझे वहाँ जाने के लिए बाध्य कर रहे थे । माताजी तथा मेरे दोनों मामाजी अपने प्रस्ताव पर जूटे रहे और किस्मत से मैं बंबई आ गया । उस वक्त मेरी उम्र सिर्फ नौ साल की थी और में चौथी कक्षा में पढ़ता था ।

 

Today's Quote

God writes the gospel not in the Bible alone, but on trees and flowers, and clouds, and stars.
- Luther

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.