केश में से दूध का चमत्कार

साधुपुरुष से मुलाकात का एक ओर प्रसंग याद पडता है, उसके बारे में यहाँ बता दूँ । कॉलेज में परीक्षा के दिन थे । इम्तिहान देकर विल्सन कॉलेज से मैं बाहर निकला तो गेट के पास ही एक साधु को देखा । वो कोई फकीर जैसा दिखता था । उसने मुझे ईशारे से अपनी ओर बुलाया । कुतूहलवश होकर मैं उसके पास गया । उसने मुझे ओर करीब आने का संकेत किया और अपना छाता उठाकर आसपास देखा । जब उसने यह देखा की कोई आसपास नहीं है तो मुझे धीरे से कहा, जेब में कीतने पैसे है ?

उस आदमी का बर्ताव मुझे विचित्र लगा । मैंने एसा साधु पहले कभी नहीं देखा था । उसके चहेरे पर सात्विकता का अंश नहीं था । उसे देखकर मुझे थोडी हैरानी हुई । किसी अनजान छात्र को पास बुलाकर कुछ ओर पूछने के बजाय सीधा ये पूछना कि जेब में कितने पैसे है, मुझे अभद्र लगा ।

मैं सोच में पड गया । मेरे जेब में कितने पैसे है इससे यह साधु का क्या तालुक्कात ? मेरे विचारों से मेरी मुखमुद्रा कुछ बदल गई । साधु ने अपना प्रश्न फिर दोहराया और आसपास दृष्टि घुमाकर फिर मेरी ओर देखा । उसके मुँह पर मेरे उत्तर की जिज्ञासा बनी हुई थी ।

उसकी जिज्ञासा शांत करने के लिए मैने उत्तर दिया, एक छात्र के पास कितने पैसे हो सकते है ? ये कॉलेज है, पढने की जगह है, नौकरी करने की नहीं । मैं एक साधारण छात्र हूँ । आप तो कोई साधुपुरुष जैसे दिखते है, फिर आपको पैसे से क्या लेना-देना ? मेरी जेब में कितने पैसे है, यह जानकर आपको क्या मिलेगा ? किसी भी पूर्व परिचय बिना एसा प्रश्न करना क्या उचित है ?

मेरी बात सुनकर उसे लगा की बात कुछ उल्टी दिशा में जा रही है । शायद उसने सोचा था की उसके प्रश्न के उत्तर में मैं उसे सच-सच बता दूँगा कि मेरी जेब में कितने पैसे है मगर उसकी दाल गली नहीं । ओर तो ओर, तीन-चार लोग हमारी बातचीत सुनकर पास आ गये । किसीको भी हमारे जैसे दो पूर्णतया भिन्न व्यक्तित्ववाले आदमी को साथ में खडे हुए देखकर आश्चर्य और कुतूहल होना लाजमी था । वक्त की नजाकत को देखते हुए उसने दुसरा पासा फेंका । उसका यह नया रूप किसी भी अनुभवी और विवेकशील आदमी को मात करने और अपनी ओर प्रभावित करने में समर्थ था । उसने कहा, तुमको साधुओं की शक्ति का अंदाजा नहीं । यह देखो मेरी सिद्धियों का परिचय । 

एसा कहकर उसने फिर आसपास देखा, ये निश्चित करने के लिए की कोई हमारी ओर नहीं आ रहा, और फिर छाते को उठाकर अपने केश की पांच-सात लटों को पकडा । केश की लटों को जैसे उसने दबाया, उनमें से दूध निकलने लगा । मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ । मुझे तुरन्त समझ में आ गया की ये मुझे प्रभावित करने की उसकी चाल थी । उसकी ये जादुविद्या या चमत्कारिक शक्ति के लिए उसकी प्रसंशा करने की मुझे जरूरत नहीं लगी । मुझे मदारी याद आया जो मर्कट को नचाता है, खेल करता है और फिर पैसे माँगने निकल पड़ता है । एसे कई मदारीयों को मैंने चौपाटी पर खेल करते हुए देखा था । लेकिन यह साधु तो मदारी से भी बदतर लगा क्यूँकि मदारी तो खुलेआम लोगों को करतब दिखाता है, जब की ये साधुने ठगविद्या की आजमाईश की ।

तीन-चार मिनट अपने बालों में से दूध निकालने के पश्चात उसने अपने हाथ पोंछ लिए । उसकी दृष्टि मेरी जेब पर थी । फिर उसने कहा, अब तो बता दो, जेब में कितने पैसे है ? जितने भी है, मुझे दे दो ।

अब तक तो बात कितने पैसे है वो जानने की थी मगर अब हद हो गई । उसने निर्लज्ज होकर मुझे कहा की जो भी हो, मुझे दे दो । मैंने हिंमत जुटा कर उसे कहा, आपको पैसे से क्या काम ? मेरे पैसे आपके क्या काम आयेगें ?

वो बोला, ये सब बताने का अब वक्त नहीं है । आप सिर्फ जल्दी से मुझे पैसे दे दो, मुझे चाय पीनी है । भगवान आपका भला करेगा । आप खुब पढकर बडा नाम कमायेंगे ।

मैंने सोचा कि जो आदमी अपने केश में से दूध निकाल सकता है, वो एक कप चाय के लिए क्यूँ भीख माँगता होगा ? वो दूध क्यों नहीं पी लेता ? और अगर चाय ही पीनी है, तो दूध बेचकर पैसे क्यूँ नहीं कमाता ? ओरों को प्रभावित करने के लिए फुटपाथ पे ठगविद्या के प्रयोग क्यूँ करता है ?

अपने विचारों को मैंने अपने पास ही रखे । उसे प्रदर्शित करने में समझदारी नहीं थी । मैंने निर्भयता से उसे कहा, अगर आपने मुझे पहले बताया होता कि आपको चाय के लिए पैसे चाहिए तो मै खुशी से दे देता । मगर आपने गलत रास्ता ईस्तमाल किया । फिर भी, मैं आपको चाय के लिए पैसे देता हूँ ।

मैंने पैसे दिये, मगर साधुको वो कम लगे । शायद उसकी उम्मीद ज्यादा पैसे की थी । उसने कहा, आपकी जेब में जितने भी पैसे है, मुझे वो सब दे दो ।

मैंने कडा रुख अखत्यार करते हुए कहा, मेरे पासे इतने ही पैसे है, और आपकी चाय के लिए वो पर्याप्त है ।

उसे लगा की अब दुराग्रह करने से कोई फायदा नहीं होगा ।

वो बोला, ठीक है, अब आप सीधे-सीधे चले जाओ, पीछे मुड़के नहीं देखना, अगर देखोगे तो अच्छा नहीं होगा । 

मैं हेन्गींग गार्डन की ओर निकल पडा और वो किसी ओर दिशा में चल पडा ।

 

बडौदा में पुनरावर्तन

तकरीबन एक साल के बाद फिर से बंबई की उस घटना का पुनरावर्तन हुआ । उस वक्त मैं बडौदा में था और दोपहर के वक्त कमाटीबाग से गुजर रहा था । जैसे ही मैं उसके मुख्य प्रवेशद्वार से गुजरा की तीन साधु जैसे लोग मेरे पास आये । वो मुझे केम्प के रास्ते पर ले गए और कहने लगे, आपका चहेरा बहुत तेजस्वी है, आप बडे भाग्यवान है । आपको बहुत धन मिलेगा, आपका सभी जगह यश होगा । आपकी किस्मत चमकनेवाली है । एसा कहके फिर वो बोले, आपकी जेब में जितने भी पैसे है, वो हमें दे दो ।

फिर वो आसपास देखने लगे । जब उन्होंने देखा की कोई नजदीक नहीं है तो हाथ में अपने बालों की लटों को पकडा । मेरे लिए इतना काफि था । बंबई का साधु मुझे तुरन्त याद आया । मैंने उन लोगों को हिम्मत से कहा, मुझे कुछ देखने की जरूरत नहीं है । आपको मैं एक भी पैसा नहीं दूँगा । मैं जानता हूँ आप लोग क्या करते है । आप लोगों को फँसाते है । मैं आपकी जाल में फँसनेवाला नहीं । मैं अभी पुलिस को बुलाता हूँ और आपका पर्दाफाश करता हूँ ।

मेरी बात सुनकर वो हैरान रह गये । एसे प्रत्युत्तर की उनको अपेक्षा नहीं थी । योगानुयोग थोडी दूरी पर एक पुलिस खडा था । पुलिस को देखकर वे डर गये और बोले, बस, जोर से मत चिल्लाओ, ओर वो चल पडें ।

 

Today's Quote

Patience is not so much about waiting, as it is about how one behaves while waiting.
- Anonymous

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.