Sunday, July 05, 2020

निराशा का त्याग करो

बडौदा
ता. १५ जुलाई, १९४०

प्रिय भाई,
खत में तुमने जो प्रश्न किया है, वो नया नहीं है । इसके बारे में हम पहले कई दफा बात कर चुके है । हाँ, ये प्रश्न मौजूदा हालात में जितना प्रासंगिक है, इतना शायद पहले कभी नहीं था ।
*
तुमने जिसका जीक्र किया है उसको मैं जानता हूँ । उसकी उम्र शायद १२-१३ सालकी है ।

हमारे यहाँ मातापिता बच्चों की शादी को अपने जीवन की इतिकर्तव्यता मानते है । वे मानते है की पुत्र या पुत्री की शादी कर दी तो मानो जग जीत लिया । मुझे आजतक ये समज में नहीं आया की वे शादी की इतनी जल्दी क्यूँ करते है ? वो एसा क्यूँ नहीं सोचते की उनका लडका आम नहीं, खास बने ? वो एसा क्यूँ नहीं सोचते की उनका पुत्र कुछ साल तक और हो सके तो ताउम्र ब्रह्मचारी रहें, वो खुद का और औरों का भला करें, पूरी दुनिया में नाम कमाये । अगर वो सचमुच ये चाहते है तो फिर अपने पुत्र पर वक्त के पहले शादी का बोज क्यूँ डालना चाहते है ? हम सब इसका उत्तर जानते है । लोग कहते है कि माँबाप इसलिये एसा करते है क्योंकि वो अपने बच्चों से बहुत प्यार करते है । मैं पूछता हूँ की अपने स्वार्थ के लिये अपने बच्चों के गले में शादी का फँदा डालना कौन सा प्यार है ? क्या बच्चों से प्यार जताने की यही रीत है ? अगर वो एसा करना चाहते है तो अपने बच्चे की सही परवरिश करें, उसे जीवन में आगे बढने के लिये प्रेरित करें । मगर हमारे यहाँ एसा नहीं होता है । स्वार्थ और संकुचित दृष्टिकोण की वजह से माँबाप बच्चों की शादी जल्दी निपटा देते है ।

कुछ लोगों का मानना है की बच्चों की जल्दी शादी करने के पीछे माँबाप की यही तमन्ना होती है वो अपने पोते-पोतीओं को देखे, अपने वंश को आगे बढता हुए देखें । मैं पूछता हूँ की शादी करने से बच्चे होंगे इसकी क्या गेरंटी है ? और सिर्फ शादी करने से ही वंश रहता है ? और अगर एसा है तो एसे वंश का क्या फायदा ? काल के महासागर में उसका मूल्य कितना ? दयानंद और रामकृष्ण को कहाँ बच्चे थे ? तुलसीदास और सुरदास को कहाँ पुत्र थे ? मीराँ ने कौनसी लडकी को जन्म दिया था ? तो क्या आज उनको कोई याद नहीं करता ? हम पूरे आर्यावर्त में जो आर्यसमाज की शाखाएँ देख रहे है, उसमें धर्म का शिक्षण पाते हुए हजारों बालक-बालिकाएँ देख रहे है, ये क्या दयानंद के वंशज नहीं है ? ‘मीराँ के प्रभु गिरिधर नागर’ गानेवाली सभी कन्याएँ क्या मीराँबाई की वारिस नहीं है ?

हाँ, मैं मानता हूँ की आम आदमी के लिये वैवाहिक जीवन आवश्यक है । मगर जो आध्यात्मिक मार्ग पर चल पडे है, जिनको शादी की निरर्थकता बराबर समज में आ गयी है, उनके लिये एसा करना जरूरी नहीं है ।

वैवाहिक जीवन बाधाकारक है एसा कहना अर्धसत्य होगा । हाँ, इससे व्यक्ति पर एक प्रकार का अंकुश जरूर आता है । लेकिन ये सकारण है और ज्यादातर लाभदायी सिद्ध होता है । शादी के पहले एक व्यक्ति उपर उठ सकता था, तो शादी के बाद दो उपर उठ सकेंगे । अगर दोनों व्यक्ति शुद्ध है, जीवन की उन्नति के लिये प्रयत्नरत है, देहसुख की लालसा में नहीं फँसें है, तो दोनों उपर उठ सकते है । गांधीजी और कस्तूरबा, या किशोरलाल मशरूवाला और उनकी धर्मपत्नी के दृष्टांत हमारे सामने है ।

मगर तुम्हारी शादी तो एसी व्यक्ति के साथ होनेवाली है जिसको तुमने गोदी में खिलाया है । यह कैसा संयोग है ? और तुम्हें वैवाहिक जीवन में प्रवेश करने की आवश्यकता भी नहीं है ।

तुमने हिंमत करके अपनी माँ को इसके बारे में बताने का सोचा है, ये ठीक है । तुम्हें साफ लब्जों में लिख देना चाहिये के अभी मुझे वैवाहिक जीवन में प्रवेश नहीं करना है । एसा करने से मेरी प्रगति में बाधा आ सकती है । एसा नहीं है की मुझे शादी नहीं करनी है, मगर अभी मैं इसके लिये तैयार नहीं हूँ । खास करके, इस बहन के साथ एसा सोचते हुए मुझे संकोच होता है ।

मैं तो कहता हूँ की अगर माताजी न मानें तो पिताजी को मनाईये । और वो भी न मानें तो इसका खुला विरोध करें । केवल मातापिता के बारे में सोचकर कब तक तुम अपने खुशियों की बलि देते रहोगे । हमारे माँबाप हमेशा ठीक सोचते है, एसा थोडा है ?
*
अभी तो सिर्फ सगाई हुई है, शादी नहीं । मेरा मानना है की मातापिता की इच्छा के खातिर शादी करनी पडे तो करो, मगर कम-से-कम २२-२३ साल के हो जाने के बाद । तब तुम अपने पैरों पर खडे हो जाओगे । अगर इस प्रकार की आपसी समजबूझ है तो कोई हरकत नहीं है । मगर तुम्हारे मातापिता फौरन शादी कराना चाहे तो ना कह दो । तुम्हारे मातापिता तुम्हारा भला सोचते है तो ये बात समज पायेंगे और तुम पर जल्दी शादी करने का दबाव नहीं डालेंगे ।

मान लो के एसा नहीं होता है और तुम्हारी शादी हो जाती है, तो निराश होने की कोई बात नहीं है । उसे माँ की मरजी समजकर स्वीकार करना । शादी के बाद क्या करना है, ये तुम पर निर्भर है । जी. एम. भट्ट जैसे आदमी का इसमें काम नहीं है । उन्होंने कुछ वक्त ब्रह्मचर्य का पालन किया, ये बेशक प्रशंसापात्र है मगर इसके लिये हमें उसकी धर्मपत्नी को शाबाशी देनी होगी । न जाने क्यूँ उसे देखकर मुझे एक गुणियल बालिका की याद आती है । वर्तमान समय में हमे एसी स्त्रीयों की जरूरत है । जिस बहन के साथ तुम्हारा ब्याह होनेवाला है, वो अगर एसा कर सके, और तुम उसे एसा करने में सहायता करो तो इससे बढिया क्या हो सकता है ? अगर तुम विकृति से बचे रहो तो वो माँ की कृपा होगी ।

मेरा कहने का मतलब है की अब भी तुम्हारे पास विकल्प है । मैं इसके बारे में और भी लिख सकता हूँ मगर अब खत में इतनी जगह नहीं है । इसके बारे में फिर कभी बात करेंगे ।

तुम हमेशा शुद्ध और अच्छे विचार करो, परमचेतना के साथ अपना संपर्क बनाये रखो । फिर कितनी भी विषम परिस्थिति क्यूँ न आये, तुम्हारी प्रसन्नता बरकरार रहेगी । तुम्हारा हृदय अपना मार्ग खुद-बखुद ढूँढ लेगा ।
*
तुमने प्राणायाम के बारे में पूछा, ये अच्छा हुआ । मैं जिस प्रकार से प्राणायाम करता हूँ उसके बारे में बताता हूँ । पहले दाहिन अंगूठे से दाहिने नासिकाद्वार को बन्द करके बाँये द्वार से श्वास अंदर लेना है (पूरक क्रिया)। एसा करते समय मन में भूः भूवः मंत्र एक बार रटना है । फिर दोनो नासिकाद्वार बन्द कर देना और यही मंत्र चार दफा रटना है (कुंभक) । फिर दाहिने नासिकाद्वार से श्वास छोडना है (रेचक)। एसा करते वक्त दो बार मंत्र रटना है । साँस अंदर लेने और बाहर नीकालने की क्रिया जीतनी हो सके उतनी धीमे-से करनी है । ये हुआ आधा प्राणायम । अब बाँये नासिकाद्वार को बन्द करके दाहिने द्वार से साँस लेना है और साँस रोकने के बाद दाहिने नासिकाद्वार को बन्द करके बाँयी और से निकालना है । मंत्र रटने का प्रमाण जैसे पहले बताया वैसा, मतलब पूरक, कुंभक और रेचक में क्रमशः एक, चार और दो रहेगा । एसा करने से एक प्राणायाम होता है । प्राणायाम पूर्ण होने पर कुछ वक्त, तकरीबन आधी मिनट तक, आँख बन्द या अर्धोन्मिलित रखनी है । फिर धीरे-से सोहम भाव करके आँख खोलनी है ।

शुरुशुरु में जैसा मैंने बताया एसा न हो पाये तो कोई हरकत नहीं । मगर कोशिश जारी रखना । मंत्र का प्रमाण १, ४ और २ ही रखना, मेरे कहने का मतलब तुम ८, ३२ और १६ मंत्र भी रट सकते हो ।

भोर, मध्याह्न, सांय और मध्यरात्रि का वक्त प्राणायाम के लिये सानुकूल है । प्राणायाम करने से ध्यान के लिये आवश्यक भूमिका तैयार होती है । मैंने आज सुबह ४ बजे उठकर २ प्राणायाम किये थे ।

इसके अलावा प्रातःकाल में जल्दी उठकर, मुँह धोकर, ताँबे के बरतन में रखा आधा लिटर पानी पीने से पेट साफ होता है । जलनेति करने से आँखो की ज्योति तेज होती है ।  

तुम कितने बजे उठते हो ? रात को कब सोते हो ? शीर्षासन करते हो या नहीं ?

मैं अभी कमाटीबाग में हूँ । आकाश में बादल छाये हुए है । कल और परसों यहाँ जमकर बारिश हुई थी । कल शाम तो आकाश की शोभा देखने जैसी थी । मैं मनुभाई के साथ वन्य विस्तार, झाडीयों में गया था । वहाँ तालाब के किनारे बैठकर ये नजारा देखता रहा । आकाश में बादलों का खेल देखने में वक्त कब गुजर गया, ये पता ही नहीं चला ।

तुम्हें अपने जीवन में जो घटनाएँ होती है उसे माँ की इच्छा मानकर चलना होगा । मैं भी एसे कई अनुभवों से गुजर रहा हूँ । माँ की कृपा से मैं निराश और नाहिंमत नहीं हुआ हूँ । परीक्षा की इन कठिन घडीयों को हम हँसते-हँसते गुजार दे इसीमें हमारे जीवन की सार्थकता है । हमारे लिये निराश होंने का कोई कारण नहीं है । हम कौन है ? हम तो सृष्टि के विधायक है, अपनी तकदीर हम खुद लिखेंगे । हम अनंतानंद है, हमारे लिये निराश होने का कोई कारण नहीं है ।

रोजनीशी में अपने विचार लिखना मत भूलना ।

Today's Quote

Success is a journey, not a destination.
- Vince Lombardi

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok