Tue, Dec 01, 2020

स्थितप्रज्ञ के लक्षण

प्रश्न – स्थितप्रज्ञ पुरुष की पहचान का एक महत्वपूर्ण लक्षण शांति के बारे में आपने बताया । इसके सिवा कोई और लक्षण बता सकते हैं आप ॽ
उत्तर – अवश्य । दूसरे अनेक लक्षण हैं । स्थितप्रज्ञ पुरुष का दूसरा महत्वपूर्ण लक्षण ईश्वर साक्षात्कार अथवा ईश्वर के लिए अनंत प्रेम । प्रेम के बिना ईश्वर साक्षात्कार संभवित नहीं है । और बिना ईश्वर साक्षात्कार के परमात्मा के साथ सतत समागम नहीं होता । तात्पर्य यह कि सब के मूल में ईश्वरप्रेम है । उसे स्थितप्रज्ञ पुरुष का मेरुदंड कहा जा सकता है । उसी प्रेम से प्रेरित होकर वह ईश्वर साक्षात्कार के लिए साधना करता है और अंत में साक्षात्कार कर लेता है । मनुष्य को ईश्वर साक्षात्कार दो जगह, अपने भीतर एवं बाहर करना है । भीतर यानी अपने शरीर के भीतर और बाहर यानी संसार के सभी पदार्थों में । इस द्विविध साक्षात्कार को ही संपूर्ण साक्षात्कार कह सकते हे और इन्हीं से कृतार्थता हासिल होती है । स्थितप्रज्ञ पुरुष के लिए वैसा साक्षात्कार सहज हो जाता है और फलतः उसका मन हमेशा परमात्मामें ही रत रहता है । उसके मनमें, हृदयमें, प्राणों और रोम रोम में ईश्वर और केवल ईश्वर ही रहता है ।

प्रश्न – क्या इससे आप यह कहना चाहते हैं कि स्थितप्रज्ञ पुरुष को संसार के पदार्थों से प्रीति नहीं होती है ॽ अथवा शास्त्रों में जिसे वैराग्य की संज्ञा दी गई है वे उस वैराग्य की जीती जागती तसवीर है ॽ
उत्तर – वैराग्य के अभाव में वैसी असाधारण अवस्था की प्राप्ति संभवित नहीं है अतएव इस में कोई सन्देह नहीं कि स्थितप्रज्ञ पुरुष वैराग्य की प्रतिमूर्ति होते हैं । लेकिन यहाँ लोगों में वैराग्य शब्द का जो रुढ अर्थ प्रचलित हुआ है, उसे यहाँ गठन नहीं करना है समझे ॽ वैराग्य यानी संसार के विषयों में राग न होना और परमात्मा में विशेष अनुराग होना । इस दृष्टि से देखा जाय तो स्थितप्रज्ञ पुरुष इस अर्थ के अनुवाद के समान हैं । अगर यह कहा भी जाये कि संसार के पदार्थों से उन्हें प्रीति हैं तो भी उन्हें राग या मोह नहीं होता । अगर आप प्रेम और राग या प्रेम और मोह के भेद को समझ सकें तो इस कथन को भी आसानी से समझ सकेंगे ।

प्रश्न – क्या स्थितप्रज्ञ पुरुष कार्य करते हैं या नहीं ॽ
उत्तर – बिना कर्म किये कौन रह सकता है ॽ प्रत्येक देहधारीको कर्म करना ही होता है । उससे एक या दूसरे प्रकार के कर्म होते ही रहते है । किंतु स्थितप्रज्ञ किसी भी प्रकार के अहंभाव के बिना, परमात्मा की प्रेरणा से प्रेरित होकर कर्म करता है । उसे न तो उस कर्म में आसक्ति होती है न उसके फल में । वह दूसरे के लिए हितकर होता है । दूसरों के हितरूप यज्ञों की वेदी में अमूल्य आहुति के रूप में होनेवाले वे कर्म संसार के लिए हितकर सिद्ध होते हैं । वे कर्म कदापि बंधनरूप नहीं होते । सामान्य मनुष्य के कर्म इस प्रकार के नहीं माने जा सकते । वे तो विवेकरहित, अहंभाव से युक्त, राग द्वेष एवं आसक्ति से भरे, शुभाशुभ असरों से पूर्ण एवं बंधनकारक होते हैं । जब कि स्थितप्रज्ञ पुरुष कर्म करते हैं फिर भी वे उनके असर से अलिप्त रहते हैं । यह अलिप्तता अथवा अनासक्ति और परहितपरायणता स्थितप्रज्ञ पुरुष के महत्त्वपूर्ण लक्षण है ।

प्रश्न – जो महात्मा किसी प्रकार के सक्रिय कार्य या सेवा नहीं करते, भाषण, प्रवचन या प्रचार नहीं करते परंतु एकांत स्थलों में जीवन बिताते हैं उनसे क्या फायदा ॽ उन्हें एकांत का त्याग करके लोगों के बीच प्रचार हेतु आना चाहिए, एसा आपको नहीं लगता ॽ
उत्तर – आपका प्रश्न दो भागों में विभक्त हुआ है । अतएव दोनों पर विचार करना पडेगा । आप अगर यह मानते हैं कि भाषण या प्रवचन करने में और प्रचार के लिये दौड़धूप करने में ही सेवा की इतिश्री है तो यह असमीचीन है । सेवा का क्षेत्र तो बहुत विशाल है । स्थूल पद्धति की अपेक्षा अन्य अनेक पद्धतियों से सेवा की जा सकती है । गीता का कथन है कि योगीजन शरीर, मन और केवल इन्द्रियों से भी कर्म करते हैं ।
दूसरी बात यह है कि आपके और महात्माओं के दृष्टिकोण में आसमान जमीन का अन्तर हो सकता है । आपके इन्द्रियों के पदार्थ एवं सांसारिक विषय महात्माओं के लिये क्षुद्र है । जीवन की समूची शक्ति का उपयोग ईश्वर-प्राप्ति या मुक्ति के लिये करना ही महान सेवा है ऐसा वे मानते है । वे कहते हैं आप किसकी सेवा करने दौडते हैं । आप दूसरों की सेवा भले ही करें किंतु आपको अपनी सेवा भी करनी है । बंधन से मुक्त होकर आपको मुक्ति का आनंद उठाना है । आत्मा की साधना द्वारा परमात्मा के साक्षात्कार करके अल्प मिटकर विराट बनना है । मनुष्य जीवन का सबसे श्रेष्ठ पुरुषार्थ यही है । इस पुरुषार्थ की उत्कट भूख लगने के कारण ही महात्मा एकांतवासी बनकर तप करते हैं अतएव वे सेवा नहीं करते ऐसा कैसे कहा जा सकता है ॽ उनका दर्शन, वचन एवं जीवन संसार के लिये प्रेरणाप्रद है इसमें कोई सन्देह नहीं । इतनी उत्कट भूख जिसमें नहीं जगी वे कर्म के बाह्य मार्ग पर विकास करते हैं । शेष यह कि उपरोक्त कोटि के महात्मा तो अपने आध्यात्मिक आदर्श को सिद्ध करने के बाद ईश्वरेच्छा के अनुसार बाह्य कर्म में जुट जाते हैं । ऐसे महात्माओं से संसार को अत्यधिक लाभ होता है । ये महात्मा ही लोगों को आत्मिक विकास की याद दिलाते हैं । दूसरे कंचन कामिनी और कीर्ति के लिये दौड-धूप करनेवाले लाखों लोगों की अपेक्षा वैसे एक ही संतपुरुष से संसार को ज्यादा लाभ होता है ।

- © श्री योगेश्वर (‘ईश्वरदर्शन’)

 

Today's Quote

We are disturbed not by what happens to us, but by our thoughts about what happens.
- Epictetus

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok