Mon, Nov 30, 2020

प्लानचेट

प्रश्न – क्या प्लान्चेट द्वारा मृतात्माओं के साथ संबंध स्थापित किया जा सकता है ॽ
उत्तर – हाँ, यह बात सच है । प्लानचेट एक विद्या है, जिसके द्वारा मृतात्माओं के साथ सम्बन्ध स्थापित कर सकते है । भारत में ही नहीं, पाश्चात्य देशों में भी इस विद्या का प्रचार है और कई लोग इसमें दिलचस्पी लेते हैं । इसमें रुचि रखनेवाले लोगों ने अपने स्वानुभव पर आधारित पुस्तकें या लेख लिखे हैं जो अत्यंत दिलचस्प और रोचक है । क्या आप भी प्लानचेट विद्या में दिलचस्पी रखते हैं ॽ क्या आप उसका प्रयोग करते है ॽ

प्रश्न – प्रयोग तो नहीं करता किंतु एक परिचित सज्जन प्रयोग करते हैं उनके साथ मेरा संबंध है । सप्ताह में एक बार हम उनके यहाँ इकठ्ठे होते हैं । वे दूसरे दो-तीन आदमियों के सहारे प्रयोग कर दिखाते हैं । वे हमारी इच्छा के अनुसार मृतात्माओं को बुलाकर उनके पास हमारे प्रश्नों के उत्तर दिलवाते हैं । मृतात्मा उत्तर देकर चले जाते हैं । कभी वे अपने सूचन देते हैं तथा गूढ एवं गुप्त रहस्य भी बतलाते हैं । इससे आश्चर्य होता है ।
उत्तर – आप यह सब देख दंग रह जाय, यह सच है और सही अर्थमें कहें तो यह विद्या ही अजीब तरह की है । माध्यम बननेवाले मनुष्यों के द्वारा इस विद्या का जो प्रदर्शन होता है उसमें गुप्तता या रहस्यमयता की कोई बात नहीं है । जो कुछ होता है वह खुलेआम ही होता है । हाँ कैसे होता है यह भेद की बात है । कुछ लोगों का यह कहना है कि उसके द्वारा मनुष्य के सुषुप्त भावविचार या संस्कार ही प्रकट होते हैं । हाँ, किंतु वह कैसे प्रकट होते हैं ॽ इसके पीछे कोई शक्ति अवश्य होगी । उस शक्ति के कारण ही लकडी के टेबल पर चोट लगती है और प्लान्चेट का प्रयोग सफल होता है ।

प्रश्न – इस पर से यही सिद्ध होता है कि मृतात्माओं को बुलाया जा सकता है ॽ
उत्तर – सिद्धांत की दृष्टि से इस बात को सच मानना अनुचित नहीं । किंतु व्यावहारिक रूप में दूसरे कई प्रश्न विचारणीय है । मान लीजिए कि मृतात्माओं को बुलाया जा सकता है तो भी उनको बुलाने से आपका या बुलानेवाले का कोई श्रेय होता है ॽ अपने कल्याण के लिये अगर वे कोई जानकारी दे; सूचना या युक्ति प्रदर्शित करें तो भी वे उनकी इच्छा अनुसार बर्ताव करने के लिये सर्वथा स्वतंत्र है । उनके द्वारा प्राप्त पथप्रदर्शन सच्चा ही होगा यह नहीं कहा जा सकता । कभी कभी तो वे बेबुनियाद बातें करते हैं और गलत जानकारी देते हैं । उसको सच मानकर इतमीनान से आगे बढ़ा जाये तो नुकसान होने का संभव है ।

प्रश्न – तो क्या यह मान लूँ कि आप को प्लान्चेट की विद्या में दिलचस्पी नहीं हैं ॽ
उत्तर – प्लान्चेट की विद्या दिलचस्प है किंतु उसे सर्वोत्तम मानकर उसमें डूब जाने में कोई बुद्धिमानी नहीं है । इस विद्या से जीवन का आत्यंतिक कल्याण नहीं होता । परम कल्याण के लिये तो दूसरी सब विद्याओं को गौण समझकर केवल अध्यात्मविद्या का ही सहारा लेना पड़ेगा । अगर जीवन का चरम श्रेय चाहते हैं तो आप अपने हृदय के भीतर गोता लगाईए और मृतात्माओं के साथ नहीं, जीवित परमात्मा के साथ नाता जोड़िये । उसका पथ-प्रदर्शन लीजिए और उसके साथ घनिष्ठ संबंध रखिए । अगर आप ईमानदारी व आत्मविश्वास के साथ प्रयत्न करेंगे तो आखिरकार आप आत्मशक्ति की चरमसीमा पर पहुँच जायेंगे । दूसरी विद्याएँ तो जीवन के सच्चे आदर्श को भुला देनेवाली हैं । आप भी यदि जीवन के आदर्श को विस्मृत कर देंगे तो आपको बड़ी भारी हानि होगी, यह अच्छी तरह याद रखें । अगर आप शांति, मुक्ति और पूर्णता की कामना रखते हैं तो ईश्वर-साक्षात्कार को ही अपने जीवन का मकसद बनायें । इसीमें आपकी भलाई है ।

प्रश्न – आपने प्लानचेट के बारे में जो कहा उससे मेरे मन में जिज्ञासा उत्पन्न हुई है । थोडे समय पहले मेरे एक स्वजन का देहांत हो गया । क्या प्लानचेट के प्रयोग के द्वारा वे कहाँ गये होंगे यह जाना जा सकता है ॽ मैं उनका सम्पर्क करना चाहता हूँ । अगर आप ऐसा प्रयोग करनेवाले व्यक्ति का नामनिर्देश करेंगे तो मुझे लाभ होगा ।
उत्तर – आप अपने मृत स्वजन का संपर्क क्यों स्थापित करना चाहते हैं ॽ मैं तो मानता हूँ कि आपको यह विचार ही छोड़ देना चाहिए । कभी कभी कोई दूसरे ही हमारे स्वजन का स्वांग लेकर प्लानचेट पर उपस्थित होते हैं । उन्हें आप कैसे पहचान सकेंगे ॽ और मान लीजिए यदि आप उन्हें पहचान सकते हैं तो भी वे स्वजन आपसे बिछड़ गये हैं और कर्म-सिद्धांत के अनुसार उनका निवास दूसरी जगह पर हुआ है । उन्हें बुलाकर उनकी शांति में विघ्न डालने का कार्य उचित नहीं है । मृत्यु ने उन्हें आपसे दूर किया है । आपका उनके प्रति जो अनुराग है, ममता है, उसे दूर कीजिए । सुखी होने का यही सच्चा उपाय है । जन्मांतर में आपने ऐसे तो कई संबंध स्थापित किये है, जो आज नहीं रहे । इस तरह इस संबंध से भी लगाव रखने की जरुरत नहीं है । यह संसार नश्वर है । अगर इसमें कोई सनातन है तो वह ईश्वर ही है । वही हमारा सच्चा स्वजन और हितैषी है । इस बात को अच्छी तरह याद करके जीवनको ईश्वरमय बनाने से ही लाभ होगा । राग नहीं अपितु वैराग्य, ममता नहीं, निर्ममता ही और प्लान्चेट जैसे सामान्य प्रयोग नहीं किंतु ईश्वर के साथ योग का असाधारण अनुभव ही हमें शांति देगा ।

- © श्री योगेश्वर (‘ईश्वरदर्शन’)

 

Today's Quote

God looks at the clean hands, not the full ones.
- Publilius Syrus

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok