Tuesday, August 04, 2020

दया का दर्शन

अनुभवी महापुरुष, संत-भक्त या विद्वान कहते हैं कि ‘ईश्वर जो करता है वह मगंल के लिए ही करता है’ । ऐसा विश्वास यदि साकार रूप में मनुष्य के मन में हो जाय तो इससे उसका कल्याण होता है । जीवन में कई बार उस विश्वास की कसौटी करनेवाले प्रसंग उपस्थित होते हैं और अक्सर प्रतिकूल परिस्थिति में तो अधिक कसौटी होती है । ऐसे समय ईश्वर की मंगलमय ईच्छा एवं योजना में जिसको विश्वास होता है वह विश्वास को सदैव बनाये रखता है । ऐसा विश्वास यदि हमारे जीवन में पैदा हो जाय और दृढ हो जाय तो कितना लाभ हो जाय ? चिंता खत्म हो जाय, वेदना का शमन हो जाय और प्रत्येक परिस्थिति में मन शांत व स्वस्थ रहें ।

यह घटना प्रायः ई. सन १९५६ की है । उस वक्त मैं ऋषिकेश के भरत मंदिर की धर्मशाला में रहता था । एक सज्जन मुझे अपने घर आनेका निमंत्रण दे गये । उनका घर देहरादून शहर के निकट के गाँव कोलागढ में था । मैंने उनके निमंत्रण का सहर्ष स्वीकार किया । तब वे खुश होकर बोले, ‘आपके आने से मेरा घर पावन हो जाएगा, इतना ही नहीं बल्कि गाँव के लोगों को भी उसका लाभ मिलेगा । हमारा गाँव बहुत ही शांत व सुंदर है । कुछ लोग बहुत ही धर्मप्रेमी व संस्कारी है । आपके आगमन से वे भी लाभान्वित होंगे ।’

उनके साथ बातचीत करके मैंने वहाँ जाने का दिवस तय किया । वे हमें लेने सुबह में जल्दी आयें और हम ११-३० की बस से उनके साथ उनके गाँव जाए – ऐसा निश्चित किया ।

निर्धारीत दिन को मैंने सुबह में उनकी प्रतिक्षा की । सब तैयारियाँ कर ली थी परंतु ग्यारह बजने पर भी वे न आये तो मुझे आश्चर्य हुआ । बारह बज गये, एक बजा फिर भी न आये तो मैं उलझन में पड गया कि क्या करूँ ? मैंने सोचा, वे किसी कारण मुझे लेने न आ सके तो क्या हुआ, तय हुआ था इसलिए मुझे वहाँ जाना ही चाहिए । उनका घर मैंने नहीं देखा था लेकिन मेरे पास उनका पता हैं, तो मैं ढूँढ निकालूंगा ।

करीब तीन बजे जानेवाली बस में मैं ऋषिकेश से देहरादून जाने निकला । रास्ते में सोंग नामक नदी आई । वहाँ हमारी बस थोडी देर रुकी । नदी पर पुल न होने से बस को नदी से ही गुजरना पडता । वर्षाऋतु में बस-व्यवहार बंद रहता । ये तो जाडे की ऋतु थी । नदी में जल बहुत कम होना चाहिए ।

देखा तो पानी में ऋषिकेश से देहरादून जानेवाली कोई बस फँस गई थी । उनके पैसेन्जर बाहर इकट्ठे हुए थे । बस को बाहर निकालने में नाकामियाब हुए थे । जाँच करने पर पता चला कि वह बस ११-३० वाली वही बस थी जिसमें हमने जाने की योजना बनाई थी । योजना सफल नहीं हुई, सो अच्छा ही हुआ । वे सज्जन न आए वह सहेतुक अथवा अच्छा ही हुआ था ऐसा लगा । अगर वो आए होते तो हम उसी बस में सफर करते और उसकी दुर्दशा तो मैं देख ही रहा हूँ । उस दुर्दशा से मुझे बचाने के लिए ही सर्वज्ञ परमात्मा ने उस सज्जन को मेरे पास न भेजा । उस घटना में मुझे ईश्वर की दया का ही दर्शन हुआ । शायद मैं उस बस में बैठा होता तो बस नहीं भी फँसती, ऐसा भी हो सकता था परंतु मुझे तो मेरे सामने जो वास्तविकता थी उसका ही विचार करना था ।

देहरादून पहुँचकर मैं टांगे में बैठकर लगभग दो मील का फाँसला काटकर कोलागढ उस सज्जन के वहाँ पहूँचा । मुझे देखकर उन्हें अचरज हुआ, थोडा संकोच भी हुआ । उन्होंने कहा, ‘आजके दिन का तो मुझे ख्याल ही न रहा, माफ करना ।’

‘कोई हर्ज नहीं, आपका विस्मरण मेरे लिये लाभकारक सिद्ध हुआ है ।’ मैंने उत्तर दिया ।

‘कैसे ?’

मैंने रास्ते की सब घटनाएँ कहकर सुनाई । वे बोले ईश्वर जो करता है वह कल्याण के लिए, फिर भी मैं आपको लेने न आ सका इसका मुझे अफसोस है ।’

‘ईश्वर की हर योजना या लीला सहेतुक होती है, मंगलमय होती है । हमें चाहिए की हम उसे इसी तरह देखने की दृष्टि हासिल करें ।’

अगर हम सचमुच ऐसी आदत डालें तो ईश्वरकृपा का दर्शन हमारी रोजबरोज की जिन्दगी में अवश्य होगा ।

- श्री योगेश्वरजी

Comments  

0 #1 Komal Kishore Mishra 2013-12-25 17:44
no words to express myself. sastang pranam.

Today's Quote

Our greatest glory is not in never falling, but in rising every time we fall.
- Confucius

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok