Tuesday, August 04, 2020

दूधवाले का प्रसंग

कश्मीर सचमुच सौंदर्य की भूमि है इतना ही नहीं, वह शांति-भूमि भी है । प्राकृतिक सुषमा सभर उस भूमि में सुंदरता व शांति की कितनी अदभुत व अलौकिक असाधारण सामग्री भरी पडी है । उसके पर्वतों की शोभा तो देखते ही बनती है । देवदार, चीड, व चीनार की अगणित कतारों से सुशोभित पर्वतमाला पहली नजर में ही देखनेवालों को नयनाकर्षित करती हैं । उनका मनमयूर नाचने लगता है ।

उस मनोहारी पर्वतश्रेणियों का दर्शन करता हुआ यात्री आगे बढता है । ज्यों ही वह आगे बढता जाता है, उसके आगे नैसर्गिक सौंदर्य का अमूल्य भंडार खुलता जाता है । अन्ततः हिमकिरीट पर्वतों का दर्शन भी होता है, बर्फ पर चलना भी पडता है । इस तरह श्रीनगर से पहलगाँव, पहलगाँव से चंदनवाडी, शेषनाग, पंचतरणी और अमरनाथ तक आ पहूँचता है । वहाँ अभुतपूर्व दर्शन से आत्मविभोर हो जीवन की सार्थकता की अनुभूति करता है । यात्री का श्रम यहाँ सफल होता है । वहाँ है क्या ? पर्वत की छोटी-सी गुफा में स्वयंनिर्मित बर्फ का शिवलिंग नजर आता है । यह देख यात्री दंग रह जाते है । हजारों लोगोंने इस दर्शन का लाभ उठाया है और कई लोग प्रतिवर्ष हिमालय के उस पुराण-प्रसिद्ध तीर्थस्थान की यात्रा करते हैं ।

हमने भी उस अलौकिक स्थान की यात्रा की । अमरनाथ जब पाँच मील की दूरी पर था, हमने डेरा डाला । वहाँ एक घटना हुई जो हमेशा के लिए याद रह गई । उस घटना को याद कर आज भी अनुपम आनंद की अनुभूति होती है ।

शेषनाग के अतिशय शीत स्थान से आगे बढकर बर्फ से गुजरते हुए हम जब पंचतरणी पहुँचे तब दोपहर हो चुकी थी । ठंडी से पुरा शरीर और सब अवयव काँप उठे थे । स्नानादि करके हम शाक-पुरी ले आये पर संतोष न हुआ । मैं चाय नहीं पीता था और वहाँ दूध भी उपलब्ध न था । अतः मुझे लगा की आज भूखों मरना पडेगा ।

साथ आये सज्जन ने कहा, ‘ईश्वर की कृपा की सच्ची कसौटी ऐसे घोर पर्वतीय प्रदेश में ही होती है । आपकी दूध की आवश्यकता की पूर्ति यदि परमात्मा करें तो उनमें हमें श्रद्धा उत्पन्न हो ।’

मैंने कहा, ‘हमारी श्रद्धा उत्पन्न करने ईश्वर काम करेगा ? कब, क्या करना, यह सब उनके हाथ में है । अगर उसे ठीक लगेगा तो दूध भी हमें देगा । वह सर्वसमर्थ है । हमें किसकी जरूरत है, वह जानता है ।’

इस बातचीत के दौरान हमारे डेरे के करीब एक पहाडी आदमी आया । उसने उनी काली कामली ओढी थी । मस्तक पर उनी टोपी थी । मेरी ओर देखते हुए हँसकर पूछा, ‘आप दूध लेंगे क्या ?’

मुझे लगा क्या यह आदमी मजाक कर रहा है ? उसके पास दूध तो है नहीं और दूध की बात कर रहा है ?

उसने कहा, ‘आप मजाक मत समझिये । मेरे पास दूध है ।’

यह कहकर उसने अपनी कामली में से दूध का मटका निकाला । हम चकित हो गये ।

‘कहिए, कितना दूध चाहिए ?’ उसने पूछा ।

हमें सोच में डूबे देख उसने कहा, ‘सारा मटका ले लो । यहाँ पर दूध मिलना मुश्किल है, इसी लिये काम लगेगा ।’

हमने पूछा, ‘तुम्हारा स्थान कहाँ है ? कहाँ से आते हो ?’

उसने हँसकर कहा, ‘आपको इससे क्या मतलब ? मेरा गाँव यहाँ पर ही है, कुछ दूरी पर लेकिन उससे आपको क्या मिलेगा ? आप दूध ले लो ।’

आखिरकार हमने उससे दूध ले ही लिया । वह प्रसन्न होकर बोला, ‘कल भी इसी समय दूध लाऊँगा ।’ और देखते ही देखते वह न जाने कहाँ चला गया ।

दूध ताजा और सरस था । मुझे तृप्ति हुई । दूसरे दिन भी जब हम अमरनाथ के दर्शन कर पंचतरणी लौटे तब उस पहाडी आदमीने हमको दूध दिया ।

दस मील के प्रदेश में कोई पशुपंछी भी नहीं रह सकता ऐसी ठंडी में यह दूधवाला कहाँ से आता था, यह आश्चर्य था । दूसरा आश्चर्य यह था कि वह केवल हमारे डेरे पर ही आ पहूँचता और हमें ही दूध देकर बिदा हो जाता । दूसरे डेरे पर वह नजर ही नहीं डालता ।

परमकृपालु परमात्मा ही मानों हमारी मुसीबत देखकर दूधवाले बन गये थे । ईश्वर अपने भले या बुरे, छोटे या बडे भक्त की परवाह करता है । इस बात का विश्वास मुझे इस घटना से हुआ । ईश्वर क्या नहीं कर सकता, यही प्रश्न है । केवल उसमें हमारा प्रेम व विश्वास होना चाहिए ।

- श्री योगेश्वरजी

Add comment

Security code
Refresh

Today's Quote

You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean; if a few drops of the ocean are dirty, the ocean does not become dirty.
- Mahatma Gandhi

prabhu-handwriting

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.

Ok