युवती से संबंध की असर

उन दिनों मैं कभीकभा सिनेमा देखने जाता । तब बंबई के न्यु थीयेटर्स में अच्छी पीक्चर लगती थी । प्रभात और बॉम्बे टॉकीझ में भी अच्छे चलचित्र प्रदर्शित होते थे । अब तो उस पीक्चर का नाम ठीक तरह से मुझे याद नहीं पडता मगर शायद वो बोम्बे टोकीझ में लगी थी । उस चलचित्र में स्मशान और चिता का दृश्य था और एक खुबसुरत लडकी के लिए एक गीत था । गीत का मुखडा कुछ ईस तरह था : ‘कंचन की तोरी काया ...’ । गीत का भाव कुछ एसा था की संसार में आकर कई स्त्रीपुरुष इस तरह बिदा हुए है, यहाँ कोई अमर नहीं रहता । तेरी ये कंचन जैसी काया भी एक दिन स्मशान की चिता में जलकर भस्म हो जायेगी, इसलिए उस पर गुमान करना व्यर्थ है । ऐसे नश्वर जगत की प्रीति करने के बजाय ईश्वर में प्रीति कर ।

चिता के वो दृश्य ने मेरे मन में गहरी छाप छोडी । जब मैं वो ब्राह्मिन लड़की को पढाने के लिए उसके पास बैठता तो चिता का वो दृश्य मेरी मन की आँखो के सामने आकर खड़ा हो जाता । वो कुमारी का शरीर सुंदर था मगर वो आखिर में नष्ट ही होगा न ? और शरीर की बाह्य सुंदरता के भीतर क्या पडा है ? उसमें तो हड्डीयाँ, माँस व रुधिर है, मलमूत्र है । चमडी के आवरण से उसे छुपाया गया है ईसलिए ये सुंदर दिखता है, मगर अंदर तो बेसुमार गंदकी पडी हई है, उनमें कई व्याधि छीपे हुए है । और जब ये शरीर वृद्ध हो जायेगा तब क्या अभी जैसा सुंदर दिखेगा ? तब तो उसके दाँत गिर जायेंगे, बाल श्वेत हो जायेंगे, यौवनसहज सुंदरता और मधुरता गायब हो जायेगी । तब वो कितना बेरूप दिखेगा ? और मान लो वो तब भी सुंदर दिखे तो भी उसका अंत तो स्मशान की चिता पर आना निश्चित है । उसे कोन टाल सकेगा ? जब हरकोई व्यक्ति की आखरी मंझिल वही है तो उसमें आसक्ति करके क्यूँ बरबाद होना ? कितने लोगों ने उसमें आसक्ति करके अपने जीवन व्यतीत कर दिये फिर भी उन्हें सुख, शांति और अमृत की प्राप्ति नहीं हुई । मैं उस पथ पर क्यूँ जाउँ ?

एसा सोचने से मेरे मन में अगर थोडा-सा लगाव था वो भी नष्ट हो गया । मेरे मन में वैराग्य की भावना दृढ होती चली । उस लड़की को देखकर मैं सोचता कि ये माँ जगदंबा का चलता-फिरता मंदिर है । उसमें माँ का पावन प्रकाश फैल रहा है । उसको बुरी नजर से नहीं मगर पवित्र दृष्टि से देखना चाहिए । उनके पास बैठने का वक्त माँ जगदंबा की संनिधि के सौभाग्य के बराबर है । उस वक्त में उसके स्थूल शरीर का निरीक्षण करने के बजाय उसमें रहे माँ के दिव्य प्रकाश को निहारना चाहिए । और अगर इसमें दिक्कत आयें तो माँ को सहायता के लिए प्रार्थना करनी चाहिए ।

मैं अक्सर ये भी सोचता की अगर माँ के साधारण अंश समान ये युवती ईतनी संमोहक और खुबसुरत है तो स्वयं माँ कितनी अलौकिक होगी ? माँ का स्वरूप कितना सुखमय होगा और माँ का प्यार मिलने पर कितना आनंद होगा ? ईस युवती के माध्यम से व्यक्त माँ के अलौकिक दर्शन करने के लिए परिश्रम करना चाहिए । माँ जगदंबा मानो उस लड़की का रूप लेकर मेरे पूर्वजन्म के संस्कारो को उजागर कर रही थी । ईतनी छोटी-सी उम्र में मुझे जगज्जननी माँ की दिव्य लीला की प्रतिती हो रही थी ।

जीवन का प्रवाह ईस तरह आगे बहता चला । उस युवती को पढाने मैं कुछ साल तक जाता रहा, मगर वास्तविक रूप में जीवन की पाठशाला में मेरा अभ्यास चल रहा था । सही मायने में मैं एक विद्यार्थी था और वो मेरी अध्यापिका या गुरु । ईसलिए मैं कहता हूँ कि उस युवती का परिचय मेरे लिए बहुत लाभदायी सिद्ध हुआ । उसे देखकर मुझे अपार आनंद मिलता था, लेकिन मुझे ये पता नहिं था की वो मेरे बारे में क्या सोचती थी । वो जानने की जिज्ञासा मुझे कभी नहीं हुई । हाँ, ये जरूर कह सकता हूँ कि मेरे प्रति उसका प्रेम और सदभाव हमेशा था । शायद उसको भी मेरे भाव और विचारों से आश्चर्य हुआ हौगा ।

वो वक्त किशोरावस्था का था और उसमें भावि जीवन की ईमारत का निर्माण हो रहा था । माँ की परम कृपा से उस वक्त में मेरी पवित्रता बनी रही । यह सोचकर आज भी मुझे गर्व और आनंद मिलता है । जब परिस्थितियाँ प्रतिकूल हो तब मनको निर्मल रखना आसान नहीं होता । बड़े बड़े तपस्वी और सिद्ध उसे नहि कर पाये तो मेरे जैसे आम आदमी की क्या हैसियत ? फिर भी माँ की कृपा से मेरे लिए वो सहज हो गया ।

 

Today's Quote

You must not lose faith in humanity. Humanity is an ocean; if a few drops of the ocean are dirty, the ocean does not become dirty.
- Mahatma Gandhi

prabhu-handwriting

We use cookies

We use cookies on our website. Some of them are essential for the operation of the site, while others help us to improve this site and the user experience (tracking cookies). You can decide for yourself whether you want to allow cookies or not. Please note that if you reject them, you may not be able to use all the functionalities of the site.